Congratulations New Links Are Unlocked Now. You can Get your From Below Link.

Created on - 16 Nov, 2023
View - 1224

At Gyanigurus, we take great pride in providing premier link protection services on a global scale. Our team of experts have carefully designed a proprietary link sharing algorithm, which ensures that your links maintain their optimal speed while bypassing excessive resource consumption and inappropriate practices.


Ganga Nadi in Hindi | गंगा नदी का महत्व

Ganga Nadi Ke Bare Mein ,Ganga Nadi in Hindi (About Ganga River):

About Ganga River


हिन्दू धर्म में गंगा नदी को सबसे पवित्र नदी का दर्जा मिला हुआ है। यह करोड़ों भारतीयों के जीवन का साधन है।इस नदी के किनारे घनी आबादी बसी हुई है और लोग इस पर अपनी दिनचर्या और जीविका के लिए निर्भर हैं। हिन्दू धर्म में हम नदी को गंगा देवी के रूप में पूजते हैं। इतिहास में भी इसका बहुत महत्वपूर्ण स्थान रहा है। कई ऐतिहासिक शहर एवं राजधानी इस नदी के किनारे स्थित हैं जैसे कि कन्नौज, प्रयाग, इलाहबाद, वाराणसी, पटना, हाजीपुर, मुंगेर, भागलपुर, मुर्शिदाबाद, कोलकाता आदि।

गंगा नदी भारत के अलावा बांग्लादेश में भी बहती है। यह नदी 2525 किमी लम्बी है जो पश्चिमी हिमालय क्षेत्र में बसे उत्तराखंड राज्य से निकलती है फिर दक्षिण की ओर बहते हुए गंगा के मैदान की ओर पूर्व दिशा में मुड़ जाती है।पश्चिमी बंगाल में पहुँचने के बाद यह यह नदी दो भागों में बट जाती है। इन दो नदियों का नाम है – पद्मा नदी एवं हुगली नदी।हुगली नदी जिसे आदि गंगा के नाम से भी जाना जाता है, बंगाल के विभिन्न जिलों से होते हुए सागर द्वीप के पास बंगाल की खाड़ी में जाकर मिल जाती है।दूसरी नदी पद्मा भी बांग्लादेश से होते हुए बंगाल की खाड़ी में मिल जाती है। बंगाल का गंगा डेल्टा जो गंगा नदी और ब्रह्मपुत्र नदी के तलछट (sediment) के प्रवाह से बना हुआ है, दुनिया का सबसे बड़ा डेल्टा है जिसका क्षेत्रफल 59,000 स्क्वायर किमी तक है।

भले ही हमारे देश में गंगा नदी का एक महत्वपूर्ण स्थान है, लेकिन यह नदी बहुत ज्यादा प्रदूषित हो चुकी है ।इसके किनारे कई औद्योगिक नगर बसे हुए हैं जैसे कि कि पटना, कानपूर, वाराणसी आदि जहाँ से प्रदूषित जल बिना फ़िल्टर हुए सीधे गंगा नदी में बह जाता है।इस प्रदूषण से इंसानों को तो खतरा है ही, साथ साथ मछलियों की 140 प्रजाति, 90 उभयचर (amphibian) प्राणी एवं सबसे प्रसिद्ध गंगा नदी में पाए जाने वाले डॉलफिन को काफी खतरा है।एक शोध के अनुसार गंगा नदी में प्रदूषण स्तर सरकार द्वारा निर्धारित लीमिट से लगभग 100 गुना ज्यादा है।सरकार द्वारा इस नदी को साफ़ करने के लिए गंगा एक्शन प्लान नामक एक योजना चलाई गयी, जो काफी हद तक नाकामयाब साबित हुआ है।

गंगा नदी की उत्पत्ति 

भारत की नदियों में गंगा भारत की सबसे महत्वपूर्ण नदी है। उदगम में हिमालय पर्वतमाला में से दो नदिया निकलती है , एक है अलकनंदा और दूसरी है भागीरथी। अलकनंदा नदी की तीन और सहायक नदियाँ है जिसमे धौली, विष्णु गंगा तथा मंदाकिनी नदिया है। भागीरथी नदी और अलकनंदा नदी देवप्रयाग और विष्णुप्रयाग में एक दूसरे से मिलती है, उसी स्थान से ये नदी गंगा के नाम से पहचानी जाती है। गंगोत्री में गंगा नदी को भागीरथी,  केदारनाथ में मंदाकिनी और बद्रीनाथ में अलकनन्दा के नामसे जानते है। उत्तराखंड में गंगोत्री नामक स्थान से शतपथ और भगीरथ खड़क नामकी हिमनदियों में से निकलती है। हिन्दू धर्म के पवित्र यात्राधाम बद्रीनाथ गंगा नदी के घाट पर बसा हुआ है। बद्रीनाथ से कुछ ऊंचाई पर स्थित केशवप्रयाग स्थान पर तिब्बत में यह नदी सरस्वती नदी से मिलती है। 

गंगा नदी का धार्मिक महत्व (Importance of Ganga)

गंगा का हमारे जीवन में क्या महत्व है? गंगा का धार्मिक महत्व दुनिया की किसी भी अन्य नदी से अधिक हो सकता है। यह प्राचीन काल से पूजनीय रहा है और आज इसे हिंदुओं द्वारा सबसे पवित्र नदियों के रूप में माना जाता है। जबकि हिंदू तीर्थस्थल, जिन्हें तीर्थ कहा जाता है, पूरे उपमहाद्वीप में स्थित हैं, जो गंगा पर स्थित हैं, उनका विशेष महत्व है। उनमें से प्रयागराज के पास गंगा और यमुना का संगम है, जहां जनवरी और फरवरी में स्नान उत्सव या मेला आयोजित किया जाता है; समारोह के दौरान सैकड़ों हजारों तीर्थयात्री नदी में डुबकी लगाते हैं। विसर्जन के लिए अन्य पवित्र स्थान वाराणसी और हरिद्वार में हैं। कोलकाता में हुगली नदी को भी पवित्र माना जाता है। गंगा नदी भारत, नेपाल और बांग्लादेश इन तीन देशो से होकर गुजरती है। गंगा नदी कुल २५१० किमी की दुरी तय करती हुई उत्तरांचल में हिमालय से लेकर बंगाल की खाड़ी के सुंदरवन तक विशाल भू भाग को सींचती हुई गुजरती है। भारत में गंगा नदी को पवित्र माना जाता है। भारत में गंगा नदी की पूजा माँ और देवी  स्वरूप में की जाती है। धार्मिक ग्रंथ और पुराणों में भी गंगा नदी का उल्लेख किया गया है। वेदों और पुराणों के अनुसार गंगा नदी देवताओं की नदी है। पहले यह स्वर्ग में प्रवाहित हुई, फिर गंगा नदी भगीरथ राजा की तपस्या से प्रसन्न होकर पृथ्वी पर आई। 

गंगा नदी की पौराणिक कहानी 

गंगा नदी के धरती पर आने की एक प्रचलित कहानी है। यह बहुत समय पहले की बात है। रामायण में महर्षि विश्वामित्र राम और लक्ष्मण को गंगा की उत्पत्ति के बारे में बताते हैं। उसके अनुसार सागर राजा को ६०,००० पुत्रों जैसी प्रिय प्रजा थी। जब राजा सगर ने अश्वमेघ यज्ञ किया, तो इंद्र ने यज्ञ को बाधित करने के लिए घोड़े को कपिल मुनि के आश्रम में रखा। राजा सगर के पुत्र घोड़े की तलाश में आश्रम गए और घोड़े को चुराने के लिए कपिलमुनि का अपमान किया। तब कपिल मुनि ने उसे जलाकर मार डाला। सागर को इस बात का पता चला और उसने अपने बेटों की सलामती के लिए प्रार्थना की। तब उसे पता चला कि यदि स्वर्ग की गंगा नदी को पृथ्वी पर लाया जाए और उसके पुत्रों की अस्थियों को उसमें फेंक दिया जाए, तो उसे सद्गति प्राप्त होगी। सागर के बाद उनके पुत्र अंशुमान, फिर दिलीप आदि ने गंगा को लाने के लिए व्यर्थ प्रयास किए। आखिरकार भगीरथ राजा की तपस्या और काम के कारण गंगा धरती पर आने को तैयार हो गई। लेकिन अगर गंगा का प्रवाह धरती पर नहीं रुका तो वह रसातल में चली जाएगी। इसलिए भागीरथी ने भगवान शंकर से गंगा के प्रवाह को रोकने का अनुरोध किया। अंततः गंगा स्वर्ग से पृथ्वी पर अवतरित हुई और भगवान शंकर ने इसे अपनी जटा में धारण किया। शंकर ने गंगा की छोटी सी धार को जटा से प्रवाहित करके पृथ्वी पर गिरने दिया। फिर भगीरथ जहां भी गए, गंगा उनके पीछे-पीछे चली। रास्ते में गंगा ने जाह्नु ऋषि के आश्रम को नष्ट कर दिया, इसलिए जाह्नु मुनि ने इसे पी लिया और भगीरथ के अनुरोध पर इसे अपने कान से निकाल लिया। इस प्रकार वह जाह्नु की पुत्री मानी गई और उसका नाम जाह्नवी भी रखा गया। भगीरथ गंगा को हिमालय से बंगाल ले गए जहां सगर के पुत्रों की हड्डियां थीं। इस प्रकार उन्होंने भी सद्गति को प्राप्त किया |

गंगा के किनारे कुम्भ मेला 

गंगा नदी के किनारे बहुत बड़ा तीर्थ मेला लगता है जो कुम्भ मेला के नाम से प्रसिद्ध है। इस के समय हिन्दू धर्म के लोग इस नदी के किनारे इकट्ठा होते हैं।
यह मेला विदेशों में भी काफी प्रचलित है एवं दूसरे देश के लोग भी इसमें भाग लेने आते हैं। इस मेले के दौरान श्रद्धालु गंगा नदी में डुबकी लगाते हैं एवं पूजा-अर्चना, भजन, कीर्तन आदि करते हैं।

यभी जानिए - दुनिया की सबसे बड़ी नदी कौन सी है 

गंगा का मैदान

भारत-गंगा के मैदान का बड़ा हिस्सा, जिसको पार करके यह बहती है, हिंदुस्तान के रूप में जाना जाने वाला क्षेत्र है और तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व में अशोक के मौर्य साम्राज्य से मुगल साम्राज्य में स्थापित मुगल साम्राज्य तक लगातार सभ्यताओं का उद्गम स्थल रहा है। अशोक के मौर्य साम्राज्य का केंद्र बिहार में गंगा पर पटना ( प्राचीन पाटलिपुत्र ) था। महान मुगल साम्राज्य के केंद्र पश्चिमी गंगा बेसिन में दिल्ली और आगरा में थे। गंगा पर कन्नौज, कानपुर के उत्तर में मध्य उत्तर प्रदेश में, हर्ष के सामंती साम्राज्य की राजधानी थी, जिसने 7 वीं शताब्दी के मध्य में अधिकांश उत्तरी भारत को कवर किया था। मुस्लिम युग के दौरान, जो १२वीं शताब्दी में शुरू हुआ, मुस्लिम शासन न केवल मैदानी बल्कि पूरे बंगाल पर भी फैला। डेल्टा क्षेत्र में ढाका और मुर्शिदाबाद मुस्लिम सत्ता के केंद्र थे। अंग्रेजों ने 17वीं शताब्दी के अंत में हुगली नदी के तट पर कलकत्ता ( कोलकाता ) की स्थापना की, धीरे-धीरे गंगा की घाटी तक अपने प्रभुत्व का विस्तार किया, 19वीं शताब्दी के मध्य में दिल्ली पहुंच गया।

गंगा के मैदान पर बड़ी संख्या में नगरों का निर्माण हुआ है। सबसे उल्लेखनीय सहारनपुर, मेरठ, आगरा, मथुरा (भगवान कृष्ण का जन्मस्थान), अलीगढ़, कानपुर, बरेली, लखनऊ, प्रयागराज, वाराणसी, पटना, भागलपुर, राजशाही, मुर्शिदाबाद, कोलकाता, हावड़ा, ढाका, खुलना और बारीसाल नगर है।

सहायक नदियाँ

गंगा नदी में जल की मात्रा धीरे धीरे बढ़ जाती है क्योंकि यह अधिक सहायक नदियों को प्राप्त करती है यह नदी भारी वर्षा वाले क्षेत्र में प्रवेश करती है और यह प्रवाह में एक उल्लेखनीय मौसमी बदलाव दिखाती है। अप्रैल महीने से लेकर जून महीने तक हिमालय पर्वत की पिघलती बर्फ़ नदी में आती है, और बरसात के मौसम में, जुलाई से सितंबर तक, बारिश वाले मानसून बाढ़ का कारण बनते हैं। शीतकाल में नदी का बहाव कम हो जाता है। हरिद्वार के दक्षिण में, अब उत्तर प्रदेश राज्य के भीतर, नदी को अपनी दो प्रमुख दाहिने किनारे की सहायक नदियाँ मिलती हैं: यमुना नदी, जो दिल्ली की राजधानी क्षेत्र से होकर बहती है और फिर प्रयागराज के पास मिलने से पहले गंगा के दक्षिण-पूर्वी प्रवाह के समान चलती है।  उत्तर प्रदेश में मुख्य बाएँ किनारे की सहायक नदियाँ रामगंगा, गोमती और घाघरा हैं। हुगली और मेघना के अलावा, गंगा डेल्टा बनाने वाली अन्य सहायक धाराएँ पश्चिम बंगाल में, जलंगी नदी और बांग्लादेश में, माताभंगा, भैरब, कबादक, गरई-मधुमती नदियाँ हैं।

तो यह थी गंगा नदी के बारे में कुछ जानकारी अगर आपको यह पोस्ट पसंद आयी है तो इसको शेयर करना ना भूले और कमेंट में आपके विचार बताये और हमारे सोशल मीडिया पर भी हमें फॉलो करे

Top