Congratulations New Links Are Unlocked Now. You can Get your From Below Link.

Created on - 13 May, 2024
View - 134

At Gyanigurus, we take great pride in providing premier link protection services on a global scale. Our team of experts have carefully designed a proprietary link sharing algorithm, which ensures that your links maintain their optimal speed while bypassing excessive resource consumption and inappropriate practices.


About Christmas In Hindi | Celebration | Decoration | Ideas

About Christmas In Hindi

Christmas Ke Bare Me Jankari Hindi Me

नमस्कार दोस्तों आज हम बात करेंगे दिसंबर में आने वाले क्रिश्चियन समुदाय के सबसे बड़े धार्मिक त्यौहार  "क्रिसमस" के बारे  में  | 25 दिसंबर को ईसाई धर्म का सबसे खास पर्व क्रिसमस मनाया जाता है | माना जाता है कि इस दिन ईसा मसीह यानि यीशु का जन्म हुआ था | चलिए तो जानते हे क्रिसमस कब ,क्यों और कैसे मनाया जाता हे |

क्रिसमस का महत्व 

क्रिसमस या बड़ा दिन ईसा मसीह या यीशु के जन्म की खुशी में मनाया जाने वाला पर्व है। क्रिसमस 330 ई. में रोम देश के लोगों द्वारा सर्व प्रथम यह त्योहार मनाया गया। यह 25 दिसंबर को मनाया जाता  है और इस दिन लगभग पुरे विश्व मे छुट्टी होती है। क्रिसमस से 12 दिन के उत्सव क्रिसमसटाइड की भी शुरुआत होती है।क्रिसमस यीशु के जन्म की खुशी में पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। प्रभु ईसा ईसाइयों के भगवान है जिन्होंने ईसाई धर्म की शुरुआत की। क्रिसमस का त्यौहार दुनिया में सबसे ज्यादा मनाए जाने वाले त्यौहारों में से भी एक है। क्रिसमस का त्योहार अपने साथ नया वर्ष भी लेकर आता है। अत: इस त्योहार का उत्साह दोगुना हो जाता है। ये साल का आखिरी सबसे बड़ा त्यौहार है। भौगोलिक दृष्टि से भी क्रिसमस विश्व का सबसे बड़ा त्यौहार है।

ईसा-मसीह  बारे में 

ईसा-मसीह धर्म के प्रवर्तक एवं महान समाज सुधारक थे। उन्होंने अपने जीवन काल में व्याप्त सामाजिक बुराईयों एवं धार्मिक आडम्बरों का घोर विरोध किया तथा सत्य का मार्ग प्रशस्त करके भटकी हुई मानवता को नयी दिशा दिखाई। आज के प्रमुख धर्मों में ईसाई धर्म की सबसे ज्यादा प्रतिष्ठा है। इस महान उपलब्धि के पीछे ईसा-मसीह का त्याग एवं महान बलिदान रहा है।“क्रिसमस” पर सांता क्लोज को भी याद किया जाता है। इस दिन कुछ लोग नकली सांता क्लाॅज बनकर उपहार भी बांटते हैं।असली सांता प्राचीन तुर्किस्तान में समुद्र के किनारे माइरा नाम के एक कस्बे में रहते थे। उसका नाम निकोलस था | वह ईसा मसीह को बहुत मानते थे। वही क्रिश्चियन समुदाय के लोग इस दिन अपने-अपने घरों में क्रिसमस का पेड़ लगाते हैं और उनपर मनमोहक सजावट करते हैं। क्रिसमस ट्री को दानशील, दाता पेड़ या यीशु ईसा मसीह का प्रतिरूप माना जाता हैं।

क्रिसमस का उत्सव 

क्रिसमस के 15 पहले से ही लोग इसकी तैयारी में जुट जाते हे | घरो की सफाई की जाती हे | नए कपड़े ख़रीदे जाते हे | अलग अलग व्यंजन बनाए जाते हे | क्रिसमस का विशेष व्यंजन का केक हे | केक बिना क्रिसमस अधूरा हे  इस दिन के लिए चर्च यानि गिरजा घरो को खूब सजाया जाता हे | क्रिसमस के छुट्टी में पूरे दिन लोग नाचना, गाना, पार्टी मनाना और घर के बाहर डिनर करके खुशी मनाते है। इसे सभी धर्मों के लोगों द्वारा मनाया जाता है, खासतौर से ईसाई समुदाय द्वारा। इस दिन सभी रंग-बिरंगे कपड़े पहनते है और खूब मस्ती करते है। सभी एक-दूसरे को "हैप्पी क्रिसमस" या “मैरी क्रिसमस” कहकर बधाइयाँ देते है तथा एक-दूसरे के घर जाकर उपहार देते है। ईसाई लोग अपने प्रभु ईशु के लिये प्रार्थना करते है, वो सभी भगवान के सामने अपनी गलतीयों और पाप को मिटाने के लिये उसे स्वीकार करते है।

क्रिसमस एक ऐसा पर्व है जिसके कार्यक्रमों में सभी धर्म और समुदाय के लोग ख़ुशी से शामिल होते हैं।  दुनिया भर में क्रिसमस के पर्व पर बड़े-बड़े मेले लगते हैं और सभी धर्मों के लोग घूमने आते हैं। क्रिसमस पर मेलों में बड़े-बड़े झूले लगाये जाते हैं अतः ये पर्व बच्चों को बहुत पसंद है। लोग अपने परिवार और दोस्तों के साथ मेला घूमकर क्रिसमस का आनंद उठाते हैं। सभी देशों में क्रिसमस की शाम को होने वाले आयोजन आकर्षण का मुख्य केंद्र होते हैं।

क्रिसमस ट्री 

 क्रिसमस पर लोग एरोकेरिया (Araucaria) के पौधे को छोटे-छोटे रंगीन गेंदों और खिलौनों से सजाते हैं जिसे क्रिसमस ट्री (Christmas Tree) कहा जाता है। इस पर रंग बिरंगी लाइट्स लगाई जाती हैं और तोहफे आदि लटकाए जाते हैं | ऐसा माना जाता है कि ये पड़े घर की नेगेटिविटी को दूर करता है | क्रिसमस के खास पर्व पर वृक्ष सजाने की परंपरा की शुरूआत जर्मनी में हुई थी | लोग अपनी सहजता के अनुसार असली हरा वृक्ष या बाजार में उपलब्ध प्लास्टिक के पौधों से इसे बनाते हैं। ऑस्ट्रेलिया उत्तरी और दक्षिण अमेरिका और यूरोप का कुछ हिस्सा पारंपरिक रूप से सजाया जाता है जिसमे घर के बहार की बत्तियों से सजावट स्लेड (बेपहियों की गाड़ी), बर्फ का इंसान और अन्य क्रिसमस के मूरत शामिल होते हैं नगर पालिका भी अक्सर सजावट करते हैं क्रिसमस के पताका स्ट्रीट लाइट से टंगा होता है और शहर के हर वर्ग में क्रिसमस के पोधे रखे जाते हैं |

सांता क्लॉज़ के बारे  में 

सांता क्लॉज़ को सेंट निकोलस, फादर क्रिसमस (क्रिसमस के जनक) या सिर्फ "सांता " के नाम से भी जाना जाता है। पौराणिक और ऐतिहासिक दृष्टि से वे लोक कथाओं में प्रचलित एक व्यक्ति हैं, जो क्रिसमस की पूर्व संध्या, यानि 24 दिसम्बर की शाम या देर रात के समय के दौरान अच्छे बच्चों के घरों में आकर उन्हें उपहार देता है। सांता क्लॉज़ को आम तौर पर एक मोटे, हसमुख सफ़ेद दाढ़ी वाले आदमी के रूप में चित्रित किया जाता है, जो सफ़ेद कॉलर और कफ़ वाला लाल कोट पहनता है, इसके साथ वह चमड़े की काली बेल्ट और बूट पहनता है | इस छवि को लोकप्रिय बनाने में तत्कालीन राजनीतिक कार्टूनिस्ट थॉमस नास्ट ने महत्वपूर्ण योगदान दिया | गानों, रेडियो, टेलिविज़न, बच्चों की किताबों और फिल्मों के माध्यम से इस छवि को बनाये रखा गया है।

 

क्रिसमस का अर्थशास्त्र :

क्रिसमस का त्यौहार आमतौर पर बहुत से देशों में सबसे बड़ा वार्षिक आर्थिक उत्तेजना लाने वाला त्योहार भी है। सभी खुदरा दूकानों में बिक्री अचानक से बढ़ जाती है। दूकानों में नए ये सामान मिलने लगते हैं क्यूंकि लोग सजावट के सामान,उपहार और अन्य सामान की करिदारी शुरू कर देते हैं। अमेरिका में, "क्रिसमस की खरीदारी का मौसम" आम तौर पर ब्लैक फ्राइडे (खरीदारी) (Black Friday), को शुरू होता है ये दिन धन्यवाद (Thanks giving) दिन के बाद आता है हलाकि बहुत से दुकान में क्रिसमस के सामान अक्टूबर की शुरुआत से ही मिलने लगते हैं। इन दिनों मार्केट और मॉल्स में भारी ऑफर भी दी जाती हे | 

अगर यह पोस्ट आपको  पसंद आयी है तो इसको शेयर करना ना भूले और कमेंट में आपके विचार बताये और हमारे सोशल मीडिया पर भी हमें फॉलो करे. धन्यवाद

Top