Congratulations New Links Are Unlocked Now. You can Get your From Below Link.

Created on - 14 May, 2024
View - 34

At Gyanigurus, we take great pride in providing premier link protection services on a global scale. Our team of experts have carefully designed a proprietary link sharing algorithm, which ensures that your links maintain their optimal speed while bypassing excessive resource consumption and inappropriate practices.


What Is Meaning Of Artificial Intelligence In Hindi | जानिए AI के बारे में

 Artificial Intelligence

What Is Meaning Of Artificial Intelligence In Hindi

दोस्तों AI यानि की Artificial Intelligence यह शब्द तो अपने बहुत बार सुना होगा क्या आप जानते है की इसका हिंदी में क्या मतलब क्या होता है ? इसकी खोज कैसे हुई ? यह कैसे काम करता है अगर नहीं तो फिर चलिए शुरू करते है 

 Artificial Intelligence जिसको हिंदी में कृत्रिम बुद्धिमत्ता कहा जाता है इसके नाम से ही आपको इसके काम का अंदाज़ा आ गया होगा मतलब की मशीनों को मनुष्यो द्वारा दिया गया दिमाग जिससे वो इंसानो की तरह सोचे और काम करे| आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) कंप्यूटर विज्ञान की एक महत्वपूर्ण शाखा है, जो स्मार्ट मशीनों के निर्माण से संबंधित है, जहां आमतौर पर मानव बुद्धि की आवश्यकता होती है. कृत्रिम बुद्धिमत्ता का अर्थ है, मनुष्य द्वारा बनाई गई बौद्धिक क्षमता। अब चलते है इसकी खोज पर की कैसे इसकी खोज हुई | 

AI  की खोज 

 Artificial Intelligence की शुरुआत 1950 दशक में चालू हो गई थी। पर इसका महत्व 1970 दशक में मिला और इसको Artificial Intelligence  के नाम से लोग पहचानने लगे। Artificial Intelligence को सबसे पहले John McCarthy ने दुनिया के सामने लाया वो एक American Computer Scientist थे, सन 1956 में the Dartmouth Conference में उन्होंने इसके बारे में बताया |और John McCarthy को ही Father Of Artificial Intelligence कहते है और इनको ही Artificial Intelligence ke janak कहते है।

AI के लक्ष्य

ऐसी system develop करना की जो खुद ही सीखे, explain करे, और अपने यूजर को advice दे | हम इंसान की comapre में कम समय में ज्यादा से ज्यादा काम कर सके ऐसी मशीने develop करे इसके अलावा मनुष्यो के जैसे सोचे, सीखे, समजे और behave कर सके | Artificial intelligence  का अंतिम लक्ष्य ऐसे उपकरणों का निर्माण करना है जो बुद्धिमानी से और स्वतंत्र रूप से कार्य कर सकें और मानव श्रम और मैनुअल काम को कम कर सकें। यह मानव बुद्धि की नकल करने के लिए मशीन लर्निंग का उपयोग करता है। चलिए अब जानते हे की Artificial Intelligence कितने type के हे | 

Artificial intelligence के types

वैसे तो AI (Artificial intelligence) को बहुत सारे प्रकारो में विभाजित किया जा सकता है | लेकिन उनसे में से 2 प्रकार मुख्य है:

1) Weak AI 
2) Strong AI 

Weak AI -

इस प्रकार के AI को नैरो (Narrow) AI भी कहा जाता है नैरो शब्द से ही आपको idea आ गया होगा की इसकी कुछ लिमिटेशंस हे जैसे यह एक साथ केवल एक ही टास्क करे Example के तौर पर Apple की सीरी (Siri)

Strong AI -

इस प्रकार के AI को general artificial intelligence भी कहा जाता है इसका main goal यह है की मशीने भी इंसानो की तरह सोचे और उनकी बौद्धिक क्षमता इंसानो की बराबर हो और कोई भी difficult task का solution भी वह खोजे

इसके अलावा Arend Hintze जो की एक assistant professor भी हैं integrative biology and computer science and engineering, Michigan State University में उन्हों ने AI को 4 हिस्सों में Categorize किया है 

1- Reactive Machines

2- Limited Memory

3- Theory Of Mind

4- Self-Conscious  {आत्म-चेतन}

1- Reactive Machines

Reactive Machines – प्रतिक्रियाशील मशीनें जो किसी भी यादों को संग्रहीत करने में सक्षम नही होती और निर्णय लेने के लिए पिछले अनुभवों का उपयोग करने की क्षमता भी नहीं होती।

उदाहरण – सन 1990 में IBM द्वारा बनाया गया शतरंज खेलने वाला सुपर कंप्यूटर “Deep Blue” जिनसे उस समय के मशहूर शतरंज खिलाड़ी Garry Kasparov को शतरंज के खेल में हरा दिया। Deep Blue एक एसा सुपरकंप्यूटर था जो शतरंज के बोर्ड पर बने काँलम को पहचान सकता था और परिस्थितियों का विश्लेषण कर संभावना को देखते हुए अपनी चाल चलता था।
सुपरकंप्यूटर के अंदर कोई भी पिछले अनुभव नही थे, ना ही वो Memory को स्टोर करने में सक्षम था। Deep Blue सब कुछ नजर अंदाज करके अपने विरोधी की वर्तमान चाल को देखते हुए निर्णय लेता था। उसको इससे कोई मतलब ही नही था कि उसने पहले कौन सी चाल चली थी।

2- Limited Memory 

Limited Memory आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस प्रणाली में बीते हुए समय का डेटा स्टोर कर सकते है, और पुराने डेटा का उपयोग कर भविष्य के लिए निर्णय भी ले सकते है। उनमे क्षमता होती है कि ऐतिहासिक डेटा से सीख सके और खुद से निर्णय ले सकें।
उदाहरण –इसका उपयोग बिना ड्राइवर वाली गाड़ियों में किया जाता है, बिना ड्राइवर वाली गाड़ियों को कुछ इस प्रकार से बनाया जाता है कि वो रोड पर चल रही गाड़ियों की स्पीड, ब्रेकर्स को Observe करके भविष्य में होने वाले हादसों को रोका जा सकें। ये Observation और Memory हंमेशा के लिए स्टोर नही होती है।

3- Theory Of Mind

जो हमने पहले के दो ( AI ) के प्रकार की बात की आज उनका उपयोग व्यापक रूप से हो रहा है। लेकिन अब हम बात करने जा रहे है AI के दो एसे प्रकार जो केवल विचारों और थ्योरी में मौजूद है। अभी उनपर काम चल रहा है।
इसके पीछे विचार यह है कि हम मानव व्यवहार, भावनाओं और इच्छाओं को समझने के लिए मशीनों को कैसे सक्षम कर सकते हैं। यह एक बहुत ही जटिल तकनीक है, जिस पर अभी भी काम किया जा रहा है।
यदि भविष्य में AI सिस्टम को इंसानों के बीच रहना है तो उन्हें यह समझना जरूरी की हर इंसान की इच्छायें, भावना और विचार अलग – अलग होते है। इनको ध्यान में रखते हुए उनसे किस प्रकार से बातचीत की जाए।

4- Self-Conscious {आत्म-चेतन}

Self-Conscious – आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का अंतिम चरण है मशीन के अंदर आत्म चेतना जगाना। ताकि वो अपने वजूद के बारे में जान सकें कि उनका वजूद क्या है। इसको ही पाने के लिए सारे साइंटिस्ट लगातार काम कर रहे है।
उदाहरण –आत्म-चेतन – जैसे की मैं जानता हूं कि मेरा वजूद है। हम इस दुनिया को प्रकृति को देख कर बिना कोई विचार के महसूस कर सकते है। यदि रोबोट्स मनुष्यों की तरह ही अपने वजूद को लेकर Aware हो जाए कि उनका वजूद है। तो इंसानों और मशीनों में कोई अंतर नही रहेगा। लेकिन अभी हमे ये तक नही पता कि इंसान के अंदर चेतना आती कहा से है, ये उत्पन्न कैसे होती यदि हमने इसे समझ लिया तो शायद हम भविष्य में इंसानों जैसे रोबोट्स को बना पाए।

Artificial Intelligence एक व्यापक शब्द है, जिसके कई सबसेट है जैसे, Machine Learning, Deep Learning, Robotics, Machine Vision, Natural Language Processing ( NLP ) और Expert System.

AI in manufacturing

manufacturing industries में AI का काफी महत्वपूर्ण role है, इसकी मदद से पहले जो काम करने में काफी time लगता था इसकी जगह मशीन की वजह से वह काम कम समय में करना possible हो पाया है.

AI in education 

education field में इसके उपयोग से बच्चों की पढ़ाई करना, उनपे इंस्पेक्ट करना, subject wise analysis करना के कौन से subject में वे weak ताकि उनकी सही तरीके से help हो सके. 

इसके अलावा Healthcare system, Business, Law जैसे क्षेत्रों में AI का इस्तेमाल किया जा रहा है.

Machine Learning – मशीन लर्निंग आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है। मशीन लर्निंग एक ऐसा माध्यम है जिसके माध्यम से कंप्यूटर को सीखना सिखाया जाता है। Machine Learning के मदद से ही एक कंप्यूटर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस हासिल कर सकता है।

मशीन लर्निंग कंप्यूटर को डेटा में पैटर्न खोजने, पुराने डेटा या तथ्यों से सीखने, पुराने अनुभवों से सीखने में, एल्गोरिदम का उपयोग करने के निर्णय लेने और सीखकर प्रदर्शन में सुधार करने में मदद करता है।

Artificial Intelligence Examples

1.  एप्पल सीरी (Apple Siri)

Siri Apple कंपनी की एक Virtual Assistant है, जो कि अभी सिर्फ IPhone और IPad के लिए उपलब्ध है. यह सबसे Popular Voice Assistant है. आप Hey Siri बोलकर अपने किसी भी काम को करवा सकते हैं. यह आपके लिए कॉल कर सकती है, कैलंडर, अलार्म, टाइम सेट कर सकती है, मैसेज भेज सकती है आदि.

Siri के समान ही Amazon की Alexa और Google Assistant भी हैं. ये सभी Artificial Intelligence के द्वारा यह सभी कार्य कर पाते हैं. आपकी भाषा को समझने के लिए ये Machine Learning का इस्तेमाल करते हैं.

2 . टेस्ला मोटर (Tesla Motor)

मोबाइल डिवाइस के साथ – साथ Automobile में भी Artificial Intelligence का इस्तेमाल किया जा रहा है. Tesla Car के बारे में तो आपने सुना होगा, यदि नहीं तो आपको बता दें यह एक Self Driving Car है जिसे चलाने के लिए किसी ड्राईवर की आवश्यकता नहीं होती है. निकट भविष्य में आपको भारत में भी यह कारें दिखाई देंगीं. Self Driving के अलावा इसमें अनेक सारे Advance Feature मौजूद हैं.

3 . Nest

     Nest एक बेहद लोकप्रिय Artificial intelligence स्टार्टअप था इसको सन 2014 में google द्वारा खरीद लिया गया था. यह नेस्ट लर्निंग थर्मोस्टेट के हिसाब से आपके काम और दिनचर्या के आधार पर ऊर्जा की बचत करता है.

4. गूगल मैप (Google Map)

google map का इस्तेमाल तो शायद आप सभी लोग करते होंगे, लेकिन क्या आपने सोचा है यह एप्लीकेशन आपको कैसे सही रास्ता बता देती है | यह Artificial Intelligence का कमाल है | गूगल मैप AI के द्वारा किसी भी सड़क की जानकारी को स्कैन करता है और अल्गोरिथम का उपयोग करके यूजर को सही रास्ता, Location पर पहुँचने में लगने वाला समय आदि सब बता देता है | प्रतिदिन लाखों लोग Google Map के द्वारा अपना रास्ता खोजते हैं |  

तो यह थी कुछ जानकारी AI यानि की Artificial Intelligence के बारेमे अगर यह पोस्ट आपको  पसंद आयी है तो इसको शेयर करना ना भूले और कमेंट में आपके विचार बताये और हमारे सोशल मीडिया पर भी हमें फॉलो करे. धन्यवाद 

Top